Moral Story in Hindi. कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है।  

0
1519

Moral Story in Hindi.

कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। Moral Story in Hindi.

एक नगर में अमीरचंद नाम का एक धनवान व्यक्ति रहता था। उस व्यक्ति के बहुत सारे मित्र थे जो उसकी तरह धनवान तो नहीं थे परंतु काम में उससे किसी भी तरह से कम नहीं थे।

वह भगवान विष्णु का परम भक्त था। वह अपने नित्य जीवन के काम को पूरा करने पश्चात विष्णु भगवान की पूजा-अर्चना करता था। एक दिन उनके पुराने मित्र चेतन ने उन्हे परिवार सहित अपने यहां समारोह के लिए आमंत्रित किया।

अमीरचंद अपने सपरिवार के साथ समय पर अपने मित्र चेतन के घर पर पहुंच गये। अपने मित्र के आगमन के पश्चात चेतन ने उसे एक ऊंचे स्थान पर बैठने के लिए कहा, लेकिन अमीरचंद ने अपने मित्र की बात को अनसुना करते हुए काम के लिए पूछा।

तब उसके मित्र चेतन ने कहा कि आप इस नगर के सबसे अमीर व्यक्ति हैं, काम करने के लिए और भी अन्य कई व्यक्ति मौजूद हैं जो सभी काम को पूरा कर लेंगे। आपको किसी भी तरह से काम करने की जरूरत नहीं है।

तभी अचानक अमीरचंद की नजर भोजन बनाने वाले कारीगरों पर गई। वह सभी कारीगर काफी प्यासे और बेचैन हो रहे थे। तब अमीरचंद ने बिना कुछ सोचे बाल्टी लेकर कुएं से पानी निकालकर भोजन बनाने वाले कारीगरों को पानी पिलाने लगे जो उस समय काफी प्यासे थे।

तभी उसके मित्र चेतन ने देखा कि अमीरचंद भोजन बनाने वाले कारीगरों को पानी पिला रहे थे, तब चेतन ने अमीरचंद से बाल्टी लेकर कहा कि यह काम आपके लायक नहीं है आप इतने बड़े व्यापारी और आप मेरे यहाँ आकर ऐसा छोटा काम कर रहे हो। आप ऐसा ना करे इससे मेरी बेजत्ती होगी।

कुछ समय के पश्चात बाहर कुछ लोग आने लगे और अमीरचंद ने देखा की द्वार पर कुछ गंदा पड़ा है तो उन्होने तुरंत द्वार को झाड़ू से झाड़ने लगे ताकि दोस्त के समारोह मे लोग आसानी से खुशी से आ सके।

Moral Story in Hindi / Short Story in Hindi

इतने मे गाँव के लोगो ने अमीरचंद को पहचान लिया और बोले की मालिक आप इस नगर के गणमान्य व्यक्ति हो और आप इस तरह के काम क्यों कर रहे हो। ये काम आपको शोभा नहीं देता है।
तब अमीरचंद ने कहा कि हमें केवल वही काम करना चाहिए जिससे हमें सन्तुष्टि मिले। क्योकि कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है।

हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि दूसरे लोग क्या कहेंगे। यदि हम इस तरह की सोच रखेंगे तो हम अपने जीवन में कभी भी कोई काम को शांति से पूरा नहीं कर पायेंगे। इसलिए हमें उसी काम को करना चाहिए जिसे पूरा करने से हमारे मन को सुकून मिलता है।

Read More : एक पत्थर का मूल्य।

Read More : भोजन की कीमत।

शिक्षा – : ज़िंदगी मे व्यकित रुपयो से नहीं अपने अच्छे कर्मो से बड़ा होता है। हमेशा अपने काम को पूरा करने की सोचो, कायोकी काम कभी छोटा बड़ा नहीं होता है, काम काम होता है न की छोटा बड़ा। ज़िंदगी मे सफल होना है तो लोगो के चेहरे पर खुशी लाना सीखो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here