Home kahaniya Motivational Story in Hindi – एक पत्थर का मूल्य।

Motivational Story in Hindi – एक पत्थर का मूल्य।

0

Motivational Story in Hindi.

एक शहर में एक व्यक्ति अपनी पत्नी और एक पुत्र के साथ रहता था। वह एक नाम-गिरामी ज्वेलर था लेकिन एक लाइलाज बीमारी की वजह से जल्दी उसकी मृत्यु हो गई। उस व्यक्ति की मृत्यु के कुछ वर्षों बाद उसका पुत्र बड़ा हो गया। Motivational Story in Hindi.

एक दिन उस ज्वेलर की पत्नी ने अपने पुत्र को एक पत्थर देकर कहा कि पुत्र ये पत्थर बहुत ही कीमती है। इसे सम्भालकर बाजार में ले जाओ और इसके मूल्य के बारे में पता करो परन्तु इसे अभी बेचना नहीं है।

तब उस ज्वेलर के पुत्र ने पत्थर लेकर अपने घर से निकला, कुछ ही दूरी में जाकर उसे एक सब्जी बेचने वाला मिल गया। वह तुरंत सब्जी बेचने वाले के पास गया और पत्थर दिखाते हुए उसके मूल्य के बारे में पूछा।

सब्जी बेचने वाला व्यक्ति बोला कि इस पत्थर के बदले तुम मेरे से 5 गाजर ले लो। ज्वेलर के पुत्र यह कहकर मना कर दिया कि अभी उसे कुछ भी नहीं बेचना है।

यह कहकर वह आगे निकल गया तब उसके बाद उसे एक फल बेचने वाला व्यक्ति मिला, उसने फल बेचने वाले व्यक्ति से भी पत्थर के मूल्य के बारे में पूछा, उस फल बेचने वाले व्यक्ति ने पत्थर के बदले 1kg सेब देने के लिए तैयार हो गया।

उसने लगभग सभी दुकानदारों के पास जाकर पत्थर के मूल्य के बारे में पता किया। उसके बाद वह एक सुनार की दुकान में जाकर वहां एक सुनार को पत्थर दिखाकर उसके मूल्य के बारे में पूछा।

सुनार ने पत्थर को अपने हाथ में लेकर देखा और कहा कि मैं इस पत्थर के बदले 1000/- रूपये दे सकता हूं। इस तरह वह हर दुकान में गया और पत्थर का मूल्य बढ़ते-बढ़ते लाखों रूपये तक पहुंच गया।

अंत में वह थक-हार कर शहर के सबसे बड़े हीरे के विशेषज्ञ के पास गया और उससे भी वही पत्थर दिखाकर उससे मूल्य के बारे में पूछा,

तब हीरे के विशेषज्ञ ने उस पत्थर को अच्छी तरह से देखने के बाद कहा कि इस पत्थर का मिलना बहुत ही दुर्लभ है और इसी वजह से इस पत्थर का मूल्य हजारों या लाखों रूपये में नहीं बल्कि करोड़ों, अरबों रूपये भी इसका मूल्य कम होगा।

पत्थर का मूल्य पता करने के बाद लड़का अपने घर आया और माँ को पूरी बात बताई की किस तरह सब्जी वाले ने 5 गाजर मूल्य लगाया और आखिर मे हीरे के व्यापारी ने इसकी कीमत करोड़ो-अरबों मे बताई।

Motivational Story in Hindi. माँ ने बेटे से कहा की जिस तरह हर व्यकित इस पत्थर का सही मूल्य नहीं लगा पाया और जो इस पत्थर का पारखी था उसने पत्थर देखते ही पहचान लिया की क्या कीमत होगी इसकी उसी प्रकार हर मनुस्य का जीवन भी अमूल्य होता है हर कोई उसको नहीं पहचान सकता इसलिए अपने जीवन को हमेशा सही मार्ग मे लगाना चाहिये ना की गलत कार्य मे।

Read More : भोजन की कीमत।

Moral of the Story-:मानव का मूल्य कभी कोई नहीं लगा सकता है यह बहुत कीमती होता है। इसे हमेशा सद कर्मो मे लगाना चाहिये।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version