Hindi Story | पत्थर के नीचे सोने के सिक्के | kahaniya.

0
697

Hindi Story, पत्थर के नीचे सोने के सिक्के, kahaniya.

बहुत पुरानी बात है किशनपुर गांव में एक किसान रहता था। वह अपना और अपने घर की जरूरतों को पूरा करने के लिए बाजार में फल और सब्जी बेचने का काम करता था। एक दिन उस गांव में एक राजा अपना वेशभूषा बदलकर आये और गाँव के रास्ते के बीच मे एक बड़ा पत्थर रख दिया और उस पत्थर के नीचे सोने के सिक्को से भरी एक थैली छुपा दी। Hindi Story.

राजा स्वयं पास की झाड़ियों में जाकर छिपकर देखने लगे कि कौन व्यक्ति इस बड़े से पत्थर को हटाकर किनारे पर रखता है। राजा ने देखा कि उस रास्ते में बहुत सारे लोग आ-जा रहे थे लेकिन कोई भी उस पत्थर को किनारे पर नहीं रख रहा था और सभी गाँव के लोग राजा को ही बुरा भला कहते जा रहे थे।

कुछ समय बाद उस रास्ते पर फल और सब्जी बेचने वाला एक किसान निकला। उसने देखा कि बीच रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर रखा हुआ है। जो गाँव के आने जाने वाले के लिए रास्ते पर परेशानी दे रहा है। उसने अपने सिर से फल और सब्जी की टोकरी को उतारकर नीचे रखा और पत्थर को रास्ते के किनारे के लिए धकेलने लगा। जिसके लिए उसे बहुत मेहनत करनी पड़ी।

काफी मशक्कत करने के बाद किसान ने बीच रास्ते में रखे हुए पत्थर को हटाकर किनारे पर रख दिया, तभी उसकी नजर एक थैले में पड़ी जिसमें सोने के सिक्के भरे हुए थे। उसी समय राजा भी अपने छिपे हुए स्थान से बाहर निकल कर किसान के पास आये।

राजा मुस्कराते हुए बोले कि ये झोली अब तुम्हारी है क्योंकि यहां पर बहुत सारे लोग आते जाते रहे, सभी देख रहे थे कि बीच रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर रखा हुआ है और किसी को भी चोट लग सकती है परंतु किसी ने भी उस पत्थर को अपनी जगह से नहीं हटाया। सभी पत्थर के पास से खुद को बचाते हुए निकल गए। किसी ने भी दूसरों की मदद के लिए उस पत्थर को नहीं हटाया।

Hindi Story | kahaniya | Motivational Story | Moral Story.

मैं यह देखना चाहता था कि मेरे राज्य में किस व्यक्ति के मन में दूसरों के लिए संवेदना है और इसी कारण मैने पत्थर के नीचे ये सोने के सिक्के से भरी झोली रखी। साथ ही यह निर्णय किया कि जो भी इस पत्थर को किनारे पर रखेगा उसी को यह झोली ईनाम के तौर पर दूंगा। चूंकि अब तुमने इस इस पत्थर को हटाकर किनारे पर रखा हैं इसलिए अब यह झोली तुम्हारी है।

Read More : जादुई अंगूठी का रहस्य।

Read More : कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। 

Read More : एक पत्थर का मूल्य।

Read More : भोजन की कीमत।

शिक्षा : प्रतेक व्यक्ति को हमेशा दूसरे व्यकित की मदद करनी चाहिये। अपने स्वार्थ के बारे मे ना सोच कर दूसरों की सहायता हमेशा करते रहना चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here